Wednesday, 8 August 2018

कोनसे ग्रह शादी के रिश्तो और"लव-रिलेशनशिप के लिए जिम्मेदार होते है



       कौन से ग्रह शादी के रिश्तो और"लव-रिलेशनशिप के लिए                   जिम्मेदार होते है 

  


 .कोनसे ग्रह शादी के रिश्तो और"लव-रिलेशनशिप    उसके बाद के आपस के रिश्तो और दूसरे लोगो से रिश्तो में अच्छे बुरे सवभाव और विखराव ठहराव  या उदासीनता  के लिए जिम्मेदार होते है 
आइये जानते हैं 

,शादी का होना ,हो कर टूटना ,शादी से पहले अति का प्यार होना ,बाद में उस प्यार का कहि गायब हो जाना ये एक्स्ट्रा मैरिज अफेयर,, सब  ग्रहों का खेल है 
,
अगर आप जवान हैं और हमसफर  का इंतजार कर रहे हैं तो आप पता लगा सकते है  कि क्या आपको प्यार मिलेगा या नहीं।
जी हाँ, प्यार पाना है तो ग्रहों को भी समझना होगा।
प्यार अथवा शादी के लिए शुक्र , शनि मंगल गुरु व राहु जिम्मेदार होते है। 
पर मुख्य भूमिका गुरु व शुक्र की ही रहती है।
जिन लोगो  की जन्मकुंडली में शुक्र,गुरु  अथवा मंगल प्रबल हैं उनको अपना मनपसंद साथी पाने में कामयाबी मिलती  है। तीनो  ग्रहों की प्रबलता का मतलब यह है कि या तो ये उच्च के हों या फिर अपनी राशि में बैठे हों और किसी  बुरे ग्रह के दृष्टि  में नहीं हों।
शुक्र प्रेम का ग्रह माना जाता है।
शुक्र के साथ मंगल अथवा राहु ,केतु  अथवा गुरु का संबंध हो जाए तो ऐसे युवा का लव-रिलेशन को शादी तक ले कर जाते है। 
शुक्र ,मंगल ,अथवा गुरु के साथ अगर राहु का किसी भी प्रकार  संबन्ध हो जाये तो ,तो ऐसे लोग प्रेम में अवश्य पड़ते है ,इनके प्रेम में शादी से पहले रिलेशन भी बन जाते है। शादी भी हो जाती है ,पर जीवन भर निजी सुख ख़राब रहते है। ऐसे लोगों के एक्स्ट्रा मैरिज अफेयर भी अक्सर देखे गए हैं।
जिन्हे उपायों से ठीक किया जा सकता है। 
अगर गुरु,शुक्र,मंगल व शनि राहु के साथ हो अथवा केतु के साथ हो ,और खुद ये ग्रह नीच या बद हो ,इनका विवाह  ज्यादा दिनों तक नहीं टिक पाता  और  तलाक के चांसेस बहुत बढ़ जाते है ,, और बाद में किसी और के साथ  लीव इन रिलेशन तक ले जाते हैं।जिन्हे उपायों से ठीक किया जा सकता है।
अगर कुंडली में शुक्र अथवा गुरु नीच का हो तो साथी रिलेशनशिप हो या मैरिड लाइफ हो बहुत अधिक चान्सेस होते है की धोखा देता है। 
एक साथ कई  अफेयर्स में शामिल होता है जिन्हे उपायों से ठीक किया जा सकता है।

लेकिन गुरु और शनि  या केतु अगर  कुंडली में बलवान तो  व्यक्ति प्रेम की उच्च कोटि की स्थिति पर  भी  पहुँच सकता है। ये तीनो  ग्रह प्रेम को धर्म  से जोड़  देते हैं 
जन्मकुंडली के पाँचवें और सातवें भाव  व्यक्ति के प्रेम पक्ष को दर्शाते हैं।
इन दोंनों भावों के स्वामी एक-दूसरे के भाव में बैठ जाएँ अथवा इनकी युति हो या दृष्टि संबंध करें तो ऐसे लोगों का प्रेम पक्ष मजबूत होता है। 
प्रेम के मामले में सातवें भाव में उच्च का चंद्रमा,शुक्र ,शनि ,केतु  भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
सातवे घर का गुरु प्रेम में  पड़ने देता ,
गुरु   की राहु,केतु अथवा शनि के साथ युति बहुत छोटी उम्र में प्यार के चक्रो में डाल  देती है ,जातक माता पिता से विद्रोह कर  के घर से भाग कर  शादी करता है ,और सारी  उम्र अपने किये कर्म की सजा भुगतता  है 
मतलब बहुत ही खराब मैरिड लाइफ व्यतीत करता है, 
जिन्हे उपायों से ठीक किया जा सकता है।



सातवें भाव में राहु अथवा केतु हों तो वे प्रेम अथवा विवाह को तबाह कर  डालते हैं। सातवें भाव में राहु होने से वैवाहिक जीवन तहस नहस हो जाता  है 
और  ऐसे व्यक्ति के अन्य कई लोगों के साथ संबंध भी  होते ही हैं।  राहू प्रेम संबंधों को पनपने के लिए उत्तरदायी होता है
अधिकांश लोग नहीं जानते कि प्रेम सम्बन्ध  कैसे बनते हैं | लोग कहते हैं की शुक्र,गुरु अथवा शनि  का स्वराशी में होना, बारहवें भाव का बलवान होना या शुक्र से सम्बन्ध होना पंचम भाव का बलवान होना ही काफी है | परन्तु सच्चाई कुछ और है |
ज्योतिष में गहरायी से काफी लोगो की कुंडली और उनके जीवन पर किये शोध से पता चला है की राहू प्रेम संबंधों को पनपाने  के लिए जिम्मेदार  होता है | प्रेम सम्बन्ध भी ऐसे जिनमे दोनों समाज से नजरें बचाकर एक दुसरे से मिलते हैं उनके लिए राहू उत्तरदायी होता है |
कैसे आइये जानते हैं |
राहू रहस्य का कारक ग्रह है और तमाम रहस्य की परतें राहू की ही दें होती हैं | राहू वह झूठ है जो बहुत लुभावना लगता है | राहू झूठ का वह रूप है जो झूठ होते हुए भी सच जैसे प्रतीत होता है | राहू कम से कम सत्य तो कभी नहीं है | जो प्रेम सम्बन्ध असत्य की डोर से बंधे होते हैं या जो सम्बन्ध दिखावे के लिए होते हैं वे राहू के ही बनावटी सत्य हैं | राहू व्यक्ति को झूठ बोलना सिखाता है | बातें छिपाना, बात बदलना, किसी के विशवास को सफलता पूर्वक जीतने की कला राहू के अलावा कोई और ग्रह नहीं दे सकता |
राहू एकतरफ़ा प्रेम का वह रूप है जिसमे व्यक्ति कभी अपने प्यार के सामने नहीं आता और फिर भी चुपचाप सब कुछ देखता रह जाता है | क्यों ? क्योंकि परिस्थितियां, ग्रह गोचर अनुकूल नहीं हैं बलवान नहीं हैं | राहू वह लालच है जिसमे व्यक्ति को कुछ अच्छा बुरा दिखाई नहीं देता केवल अपना स्वार्थ ही दिखाई देता है |
क्यों न हों ताकतवर राहू के लोग सफल? क्यों बुरे लोग तरक्की जल्दी कर लेते हैं | क्यों झूठ का बोलबाला अधिक होता है और क्यों दिखावे में इतनी जान होती है ? क्योंकि इन सबके पीछे राहू की ताकत रहती है |
ऊँचा बोलना, झूठ बोलना, बेशर्म ज़िद्दी होना,मांस मदिरा का सेवन, बुरी लत, चालाकी और क्रूरता, अचानक आने वाला गुस्सा, पीठ पीछे की वो बुराई जो काम करे ये सब राहू की विशेषताएं हैं | राहू के बारे में मैंने पिछले 15सालों में जितना पढ़ा देखा और जांचा वह भी अभी कुछ नहीं क्योंकि असलियत को सामने न आने देना ही राहू की खासियत है और हर तरह के झूठ का पर्दाफाश करना केतु का धर्म है |
केतु ही है जो संबंधों में दरार डालता है क्योंकि केतु ही दरार है | घर की दीवार में यदि दरार आ जाए तो समझ लीजिये की यह केतु का बुरा प्रभाव है और यदि संबंधों में भी एक दरार आ जाए घर का बटवारा हो जाए या रिश्तों की परिभाषा बदल जाए तो यह केतु का काम समझें |
किसी की भी कुंडली का अध्ययन करते समय मैं राहू पर अधिक ध्यान देता हूँ क्योंकि इस ग्रह का कुछ पता नहीं कि कब बदल जाए जैसे कि आप कल कुछ काम करने वाले हैं लेकिन समय आने पर आपका मन बदल जाए और आप कुछ और करने लगें तो इस दुविधा में राहू का हाथ होता है | किसी भी प्रकार की अप्र्याशित घटना का दावेदार राहू ही होता है | आप खुद नहीं जानते की आप आने वाले कुछ घंटों में क्या करने वाले हैं या कहाँ जाने वाले हैं तो इसमें निस्संदेह राहू का आपसे कुछ नाता है | 1 ,2 ,5 ,9 या 10 वे में  राहु है तो आप जानते हैं की आप झूठ की राह पर हैं, गलत है  परन्तु आपको लगता है की आप सही कर रहे हैं तो यह मति  आपको देने वाला राहू ही है |यंहा बैठा  राहु बिना बात के शरारते करवाता है। बैठे बैठे लड़ाई झगड़ा करवा देता है ,एकदम अच्छे महोल को खरब कर  देता है ,
किसी को धोखा देने की प्रवृत्ति राहू पैदा करता है
 यदि आप पकडे जाएँ और  माफ़ी मांग ले और फिर  वही गलती वही धोखा  करे तो इसमें भी आपके राहू काहाथ  है क्योंकि वह आपकी कुंडली में आपके भाग्य में कमजोर  है और यह स्थिति बार बार आएगी  इसलिए राहू का अनुसरण करना बंद करें क्योंकि यह जब बोलता है तो किसी और को  देता। कुछ और सुनाई नहीं देता | जिस तरह कर्ण पिशाचिनी आपको गुप्त बातों की जानकारी देती है उसी तरह यदि राहू आपकी कुंडली में बलवान होगा तो आपको सभी तरह की गुप्त बातें बैठे बिठाए ही पता चल जायेंगी | यदि आपको लगता है की सब कुछ गुप्त है और आपसे कुछ छुपाया जा रहा है या आपके पीठ पीछे बोलने वाले लोग बहुत अधिक हैं तो यह भी राहू की ही करामात है |
क्या करें और कैसे बचें राहू के आक्रमण से बचने के लिए 


अनेक तरीके है राहू और राहू के प्रभाव से बचने के | आवश्यकता है केवल अपने आप को जागृत करने  की | जब लगे की आपके साथ भी ऐसा ही कुछ है तो राहू की  कुंडली में स्थिति देखिये |
 जब सपने में  सांप दिखाई दे | तो  यह एक निर्देश है की संभल जाइए राहू का अगला निशाना आप पर है | और आपका विश्वास खत्म हो चूका है और बहुत जल्दी आपकी इज़्ज़त जाने वाली है आप अकेले होने वाले हो और हर तरफ से मुसीबते बढ़ने वाली है. 
गोमेद पहना जा सकता है परन्तु इसका वजन महत्वपूर्ण होगा
शनि ,राहु व केतु के उपाए करे 
गुरु व शुक्र को शुद्ध ,पवित्र व दोष रहित करने के उपाये करे। 

किसी भी प्रकार की सहायता ,व परामर्श के लिए सम्पर्क करे 
www.kalyanastrology.com 


9717281942
100% solution to all your astro problems

love ,career,business,education .,children 











       astro             jyotish                  coaching                   kid's story                  Best home remedies





Riteshnagi.blogspot.com 






IMPORTANT LINKS 

दोस्ती इतनी कमज़ोर नही होनी चाहिए कि,,,,    
Beautiful poem of munshi prem chand 

तेरे मासूम सवालो का में क्या जवाब दूRiteshnagi.blogspot.com
snake-flower
दोहे
A: MY BEST

RARE GEMS अनमोल हीरे
BEAUTIFUL AND POWERFUL QUOTES

रब नु प्या धोखा देना वे

हकीकत का फ़साना है /MY ORIGINALS/12/05/16

मेरी प्यारी चिड़िया /lost sparrows

REALITY / SEE WHAT IS TRUTH

SLIDE SHOW

History of medicine

ONLINE COACHING:

मै और मेरे पिता

words-to-improve-yourenglish

GOD YOU ARE GREAT

मुफ्त का चंदन घिस मेरे नंदन

riddles,,,,पहेलियाँ

एक काम भगवान् भी नही कर सकता


Riteshnagi.blogspot.com 



B:
excellent stories/RELIGION

दान दिया तेरा इक दान फल देगा तुझको मनमाना

कर्म का फल तो भुगतना ही पड़ता है

कमाल

पाप का फल किसके खाते में डालू / KARMA PHILOSOPHY

घमण्ड / BOAST / PROUD

घमण्ड (2 )/ BOAST-2/ PROUD-2



पति पत्नी के प्यार की एक अनोखी दिल को छूने वाली सच्ची कहानी



Riteshnagi.blogspot.com
C:

KIDS STORIES /MY ORIGINALS

टोपी वाला और बंदर की नई कहानी /KIDS STORIES / MY ORIGINALS


मेरा फर्ज /KIDS STORIES / MY ORIGINALS

हाथी दादा /KIDS STORIES / MY ORIGINALS

सात रतन

बुरा ना मानो सावन है


जल प्रदूषण / water pollution (POEM)

Riteshnagi.blogspot.com


D: ASTRO/jyotish


कोनसे ग्रह शादी के रिश्तो और"लव-रिलेशनशिप के लिए जिम्मेदार होते है
राशिया व उन के मालिक ग्रह

ASTRO +VASTU BEST REMEDIES FOR ASTRO +VASTU PEACE AND PROSPERITY IN LIFE

बच्चों की पढ़ाई के लिए (for students)

गृहस्थ की सुख ,शांति व समृद्धि लिए काम की बाते

लक्ष्मी माता को प्रसन्न करने का अचूक मन्त्र/Aastha nagi

कुण्डली में विष योग

KALYAN ASTROLOGY

अब कोई ग्रह आपको तंग नही करेगा (jyotish) greh dosh nivarn

नवग्रह कवच ( jyotish) Armour for nine planets

 यह कुछ जरुरी बाते है जो हमे जरूर पता होनी चाहिए

   अपार धन सम्पति प्राप्त करवाने वाले सावन के शनिवार

  जन्म तिथि से अपने बारे में जाने

 रोग व उनके लिए रत्न व उपरत्न (1)

  पंच महापुरुष योग

कालसर्प दोष,बिल्कुल भी न डरे

ज्योतिष संबंधित चित्र

पितृदोष / pitr dosh


Riteshnagi.blogspot.com
E: Tech
 


HOW TO FIX BAD REQUEST ERROR 400

How to get back deleted Facebook massages,pics ,videos etc

How to combine two or more videos using windows movie maker.

HOW TO START SECOND CHANNEL ON YOUTUBE

HOW TO PUT WATER MARK ON PICTURE USING POWER POINT




Riteshnagi.blogspot.com

F: Home remedies


SUREST HOME REMEDIES TO DISSOLVE BLOOD CLOTS 1
surest remedy to nip in the bud most of the deadly disease
surest Home remedies to cure pneumonia
surest home remedy to quit smoking and drinking
पीलिया के लिए घरेलू इलाज / surest simplest swift home remedy to cure jaundice
कब हम होंगे समझदार
B P की समस्या को कहे बाये बाये,,SAY bye bye to BP


Riteshnagi.blogspot.com

S:  OUR SITES

     http://NEETUNAGI.BLOGSPOT.COM
     http://AASTHANAGI.BLOGSPOT.COM

     http://WWW.KALYANASTROLOGY.COM
     http://secrets99.blogspot.com
       learn english
      https://rnagi.blogspot.in/



 

Riteshnagi.blogspot.com







No comments:

Post a comment