Sunday 2 June 2024

आपको शायद यकीन न हो, लेकिन ये सच है

48 डिग्री में उबल रहा शहर, मगर इन कॉलोनियों के किसी घर में AC नहीं, IAS अफसर भी पंखे से काम है.  चला रहे है.
 आपको शायद यकीन न हो, लेकिन ये सच है. यहां आज भी AC लगाने पर पाबंदी है. ऐसा नहीं है कि ये लोग AC (एयर कंडीशनर) नहीं खरीद सकते. दरअसल इन लोगों को कभी ऐसी की जरूरत ही नहीं पड़ी. क्योंकि यहां का तापमान शहर की अपेक्षा  बहुत कम है.
 आगरा: इन दिनों उत्तर भारत समेत कई शहरों में गर्मी ने अपने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. आगरा भी उस लिस्ट में शामिल है. यहां 124 सालों का रिकॉर्ड टूटा है. 124 सालों में दूसरी बार आगरा का तापमान 48 डिग्री के पार जा पहुंचा है. आगरा उबल रहा है .गर्मी से लोग परेशान हैं. गर्मी से बचने के लोग उपाय खोज रहे हैं. AC (air conditioner) की दुकानों पर लोगों की भीड़ लगी हुई है. लेकिन इन सभी के उलट आगरा दयालबाग की एक दर्जन कॉलोनियों में आज भी AC नहीं है .
 आपको शायद यकीन न हो, लेकिन ये सच है. यहां आज भी AC लगाने पर पाबंदी है. ऐसा नहीं है कि ये लोग AC (एयर कंडीशनर) नहीं खरीद सकते. दरअसल इन लोगों को कभी ऐसी की जरूरत ही नहीं पड़ी. क्योंकि यहां का तापमान शहर की अपेक्षा कम है. इन कॉलोनी में आईएएस, आईपीएस और कई सारे जज भी रहते हैं. जो गर्मियों में सिर्फ कूलर और पंखे से कम चलाते हैं. 
 पेड़ लगाने से हो गया तापमान कम 
आगरा सिटी के बीचों-बीच में दयालबाग स्थित है. यहां पर 50 से 90 साल पुरानी लगभग एक दर्जन कालोनियां है. शहर की अपेक्षा इन कॉलोनी के तापमान में  kafi कमी देखने को मिलती है .इसके पीछे की वजह यहां का शानदार इको सिस्टम और हरियाली युक्त माहौल. यहां हर घर के आगे पेड़ लगे हैं. साथ ही घरों की बनावट ऐसी है कि वेंटिलेशन अधिक होने की वजह से हवा और नमी रहती है . घरों तापमान भी बेहद कम रहता है. आसपास की कॉलोनी में अत्यधिक पेड़ लगे हुए हैं. किसी भी घर की छत पर आपको एयर कंडीशनर लटका हुआ नहीं दिखाई देगा

. यह कॉलोनी स्वामी नगर, दयाल नगर, प्रेम नगर ,विद्युत नगर, श्वेत नगर, कार्यवीर नगर, राधा नगर, सरन नगर ,मेहर बाग और DEI कॉलोनी है. इन सभी कॉलोनी में 1500 ज्यादा परिवार रहते हैं. इसमे से किसी के घर में एयर कंडीशनर नहीं लगा है. सिर्फ पंखा और कूलर से काम चलता है. हमने पेड़ लगाए एयर कंडीशनर नहीं… दयाल नगर के रहने वाले एडवोकेट CM सिंह बताते हैं, ‘हमारे घर इसलिए ठंडा हैं क्योंकि हमने पेड़ लगाए air conditioner नहीं. air conditioner परमानेंट सॉल्यूशन नहीं है.

 एक पेड़ कई air conditioner जितनी ठंडक देता है .हमारा घर चारों तरफ से पेड़ों से घिरा हुआ है. धूप कम आती है और अंदर के जो कमरे हैं उनका तापमान भी बेहद कम रहता है. सिर्फ कूलर या पंखे में ही काम चल जाता है. लोगों को चाहिए कि वह air conditioner छोड़कर पेड़ लगाए. दयालबाग है इको फ्रेंडली यहां हर चीज है ऑर्गेनिक राधा नगर के गुरमौज चावड़ा ने बताया कि उनकी कॉलोनी में air conditioner लगाने की इजाजत नहीं है. ऐसा नहीं है कि लोग air conditioner खरीद नहीं सकते. यहां के रहने वाले लोगों को इसकी कभी जरूरत महसूस ही नहीं हुई. क्योंकि पेड़ों की वजह से तापमान बेहद कम है. दयालबाग को इको फ्रेंडली बनाने की यह पहल है. पर्यावरण बचाने में हम सभी का योगदान होना चाहिए .बढ़ता तापमान हम सब के लिए खतरा है.

 इसके लिए दयालबाग के लोगों ने सालों पहले से तैयारी शुरू कर दी थी’. एसी पर्यावरण के लिए घातक कई सालों से दयालबाग में रहने वाले एडवोकेट अमन चौहान बताते हैं कि air conditioner वातावरण से नमी खींचकर हीट पैदा करता है. किसी भी लिहाज से air conditioner वातावरण के लिए ठीक नहीं है. हमने अपने घरों के सामने पेड़ लगाए हैं. ताजा हवा मिलती है. लोगों से अपील है कि वह air conditioner छोड़े और पेड़ लगाने पर जोर दें;.




In a city boiling at 48 degrees, some colonies still lack ACs, with even IAS officers relying on fans for comfort. Surprisingly, there's no ban on ACs; residents simply never felt the need due to the city's generally lower temperatures. Among these colonies are homes to IAS, IPS, and various judges, who manage with just fans and coolers during summers.

The temperature dropped thanks to planting trees Dayalbagh, situated amidst Agra city, boasts about a dozen colonies ranging from 50 to 90 years old. These colonies maintain lower temperatures compared to the rest of the city due to their lush greenery and eco-friendly environment. Every home here is surrounded by trees, aiding ventilation and maintaining cooler indoor temperatures. These colonies, like Swami Nagar, Dayal Nagar, Prem Nagar, Vidhyut Nagar, Shwet Nagar, Karyaveer Nagar, Radha Nagar, Sarnai Nagar, Meher Bagh, and DEI Colony, accommodate over 1500 families, none of whom rely on ACs. Fans and coolers suffice for their needs.

"We planted trees instead of installing ACs..." Residents like Advocate CM Singh from Dayal Nagar affirm that their homes remain cool without ACs due to abundant tree cover. Trees provide natural cooling, making ACs unnecessary. Their homes are surrounded by greenery, reducing direct sunlight and maintaining comfortable temperatures inside. They advocate for planting trees over relying on ACs.

Eco-friendly Dayalbagh: everything here is organic Gurmouj Chawda from Radha Nagar mentions that their colony prohibits AC installations, not because residents can't afford them but because they've never felt the need. Trees keep temperatures low, making Dayalbagh an eco-friendly neighborhood. They emphasize the importance of environmental conservation and urge others to prioritize tree planting to combat rising temperatures.

ACs are harmful to the environment Advocate Aman Chauhan, a long-time resident of Dayalbagh, highlights how ACs contribute to environmental degradation by expelling heat. He advocates for tree planting as a sustainable alternative to combat rising temperatures and urges people to reconsider their reliance on ACs.



likho jo bhi likhna hai

#लिखना_है?
तो लिखो उस फीमेल डॉग की आँखों के बारे में जिसके पिल्ले का धड़ सड़क से गुज़र रहे टायरों में थोड़ा-थोडा चिपक चिपक कर साफ़ हो रहा है !

लिखो उस शर्मिंदा हिजड़े के नाक के पसीने के बारे में जो सब कुछ होना चाहता है सिवाय एक हिजड़े के !

तुम लिख सकते हो उस जवान हाथ की कंपकंपाहट जो ब्लेड लिए नस काटने के नफे-नुक्सान को तौल रहा है !

कभी लिखकर देखो उस चिड़िया के फडफडाते परों के बारे में जो एक चील को अपने सामने से अपना बच्चा दबोचते हुए देख रही है !

या लिखो उस मुर्गे के कानों के बारे में जो ध्यान से सुन रहा है दो ग्राहकों की झटके और हलाल की डिबेट !

तुम लिखो एक झोपड़ी में रात भर चली वो फुसफुसाती अन्ताक्षरी को जो टूटी छत से पानी टपकने की वजह से हो रही है !

तुम लिखकर देखो उस बाँझ आँख की चमक जिसे वाश-बेसिन में पड़ी उलटी में एक उम्मीद की रंगोली दिख रही है !

चाहो तो लिखो शहर की सबसे ऊंची बिल्डिंग की रेलिंग पर खड़े एक हारे नौजवान की उड़ान, वो उड़ान जो वो नौजवान बस लेने ही वाला है !

तुम लिखो आसमान में बिन-मौसम काले बादल देखते हुए एक किसान की बेबसी और वहीँ थोड़ी दूर पर खेत में मिल रहे एक नए जोड़े के चेहरे की बूँदें !

या लिखो शमशान में एक कंधे पर गोल घूम रहे घड़े के छेद से गिरते पानी की छींटें जो सामने पड़ी आग में किसी को जगाने की कोशिश कर रही हैं !

लिखो सब कुछ जो लिखना है मगर एक पतिविहिन औरत की दास्तान भी लिखो जिसके सारे सपने एक पल में धाराशाही हुए हो गये होंगे ,जब उसकी चूड़िया तोड़ी गई होगी,मांग का सिन्दूर मिटाया गया होगा !

लिख सकते हो तो लिखो उस बच्चे के भरोसे के बारे में जो छत से गोल घूम कर बस कूदने वाला है कि शक्तिमान आएगा !

लिखना है कभी तो लिखो उन आंसुओ के बारे मे जो ना जाने किस डर से आंखो की दहलीज पार ना कर सके , और अंदर ही कहीं दम तोड़ गए !

और लिखो उन दोस्तों की ठिठोली के बारे में भी जिन्हें लग रहा है कि ये सिर्फ मज़ाक है !

लिखो दूर गाँव से बड़े शहर आई अकेली उस बूढ़ी औरत के बारे में जिसे अस्पताल में अकेले इलाज कराना एक पूरा जंगल काटने से ज्यादा कठिन लग रहा है !

लिखो उस भिखारी की फैली पुतलियों और अचानक उठे दर्द के बारे में जो सामने से आती एक बड़ी गाड़ी को देखकर बढ़ गया है !

लिखो उस रिश्तेदार के भेडिये जैसे दांतों के बारे में जो एक लड़की को कमरे में अकेले सोते हुए देखकर लार चुवा रहे हैं !

लिखो किसी गार्ड की बोरियत का बहीखाता जिसमे सुबह से एक हजार कार और दो हजार मोटरसाइकिल का डेबिट क्रेडिट हो चुका है !

लिखो उस देहाती ग़रीब की उलझन के बारे में जिसके इकलौते लड़के की आखों में अपनी बारात धूमधाम से बैंड बाजे से साथ गुजरने के ख़्वाब पल रहे है !

लिखो कुछ ऐसा जिसपर किसी का ध्यान नहीं गया! लिखो क्यूंकि तुम्हारे पास बहुत सी कहानियाँ है तुम्हारी आत्मा के हिडन फोल्डर में !

लिखो, जिसको पढ़कर कोई वाह-वाह न करे!  लिखो कि तुम्हारे लिखे का चर्चा न हो! लिखो बस कि अभी बहुत कुछ लिखना है तुम्हे !

shyad aap ka bhi mn kre ki hum paryavan ko surakshit kre

48 डिग्री में उबल रहा शहर, मगर इन कॉलोनियों के किसी घर में AC नहीं, IAS अफसर भी पंखे से चला रहे काम

आपको शायद यकीन न हो, लेकिन ये सच है. यहां आज भी AC लगाने पर पाबंदी है. ऐसा नहीं है कि ये लोग AC (एयर कंडीशनर) नहीं खरीद सकते. दरअसल इन लोगों को कभी ऐसी की जरूरत ही नहीं पड़ी. क्योंकि यहां का तापमान शहर की अपेक्षा कम है.

आगरा: इन दिनों उत्तर भारत समेत कई शहरों में गर्मी ने अपने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. आगरा भी उस लिस्ट में शामिल है. यहां 124 सालों का रिकॉर्ड टूटा है. 124 सालों में दूसरी बार आगरा का तापमान 48 डिग्री के पार जा पहुंचा है. आगरा उबल रहा है .गर्मी से लोग परेशान हैं. गर्मी से बचने के लोग उपाय खोज रहे हैं. AC (air conditioner) की दुकानों पर लोगों की भीड़ लगी हुई है. लेकिन इन सभी के उलट आगरा दयालबाग की एक दर्जन कॉलोनियों में आज भी AC नहीं है .








आपको शायद यकीन न हो, लेकिन ये सच है. यहां आज भी AC लगाने पर पाबंदी है. ऐसा नहीं है कि ये लोग AC (एयर कंडीशनर) नहीं खरीद सकते. दरअसल इन लोगों को कभी ऐसी की जरूरत ही नहीं पड़ी. क्योंकि यहां का तापमान शहर की अपेक्षा कम है. इन कॉलोनी में आईएएस, आईपीएस और कई सारे जज भी रहते हैं. जो गर्मियों में सिर्फ कूलर और पंखे से कम चलाते हैं.




पेड़ लगाने से हो गया तापमान कम
आगरा सिटी के बीचों-बीच में दयालबाग स्थित है. यहां पर 50 से 90 साल पुरानी लगभग एक दर्जन कालोनियां है. शहर की अपेक्षा इन कॉलोनी के तापमान में कमी देखने को मिलती है .इसके पीछे की वजह यहां का शानदार इको सिस्टम और हरियाली युक्त माहौल. यहां हर घर के आगे पेड़ लगे हैं. साथ ही घरों की बनावट ऐसी है कि वेंटिलेशन अधिक होने की वजह से हवा और नमी रहती है . घरों तापमान भी बेहद कम रहता है. आसपास की कॉलोनी में अत्यधिक पेड़ लगे हुए हैं. किसी भी घर की छत पर आपको एयर कंडीशनर लटका हुआ नहीं दिखाई देगा. यह कॉलोनी स्वामी नगर, दयाल नगर, प्रेम नगर ,विद्युत नगर, श्वेत नगर, कार्यवीर नगर, राधा नगर, सरन नगर ,मेहर बाग और DEI कॉलोनी है. इन सभी कॉलोनी में 1500 ज्यादा परिवार रहते हैं. इसमे से किसी के घर में एयर कंडीशनर नहीं लगा है. सिर्फ पंखा और कूलर से काम चलता है.



हमने पेड़ लगाए एयर कंडीशनर नहीं…
दयाल नगर के रहने वाले एडवोकेट CM सिंह बताते हैं, ‘हमारे घर इसलिए ठंडा हैं क्योंकि हमने पेड़ लगाए air conditioner नहीं. air conditioner परमानेंट सॉल्यूशन नहीं है. एक पेड़ कई air conditioner जितनी ठंडक देता है .हमारा घर चारों तरफ से पेड़ों से घिरा हुआ है. धूप कम आती है और अंदर के जो कमरे हैं उनका तापमान भी बेहद कम रहता है. सिर्फ कूलर या पंखे में ही काम चल जाता है. लोगों को चाहिए कि वह air conditioner छोड़कर पेड़ लगाए.



दयालबाग है इको फ्रेंडली यहां हर चीज है ऑर्गेनिक
राधा नगर के गुरमौज चावड़ा ने बताया कि उनकी कॉलोनी में air conditioner लगाने की इजाजत नहीं है. ऐसा नहीं है कि लोग air conditioner खरीद नहीं सकते. यहां के रहने वाले लोगों को इसकी कभी जरूरत महसूस ही नहीं हुई. क्योंकि पेड़ों की वजह से तापमान बेहद कम है. दयालबाग को इको फ्रेंडली बनाने की यह पहल है. पर्यावरण बचाने में हम सभी का योगदान होना चाहिए .बढ़ता तापमान हम सब के लिए खतरा है. इसके लिए दयालबाग के लोगों ने सालों पहले से तैयारी शुरू कर दी थी’.

एसी पर्यावरण के लिए घातक 
कई सालों से दयालबाग में रहने वाले एडवोकेट अमन चौहान बताते हैं कि air conditioner वातावरण से नमी खींचकर हीट पैदा करता है. किसी भी लिहाज से air conditioner वातावरण के लिए ठीक नहीं है. हमने अपने घरों के सामने पेड़ लगाए हैं. ताजा हवा मिलती है. लोगों से अपील है कि वह air conditioner छोड़े और पेड़ लगाने पर जोर दें;.














Saturday 1 June 2024

manik ki kimat bs johri hi jaanta hai

Ek baar ek vyakti ko ek bhut hi pyara ratn mil gya , 
Vo usko le kr sabji vale ke pass gya , bola iske badle kya de sakte ho
Sabji vala bola dekhne me bhut sunder hai , iske badle me me koi bhi ek kilo sabji de sakta hu

Vo ab 
gya , 
Vo usko le kr dukandaar ke pass gya , bola iske badle kya de sakte ho
Dukandaar bola dekhne me bhut sunder hai , iske badle me me koi bhi 5 kg samaan  de sakta hu



Vo usko le kr jeweller ke pass gya , bola iske badle kya de sakte ho
Jeweller bola dekhne me bhut sunder hai , iske badle me me 10000rs de sakta hu


Vo  ab usko le kr  ek johri ke pass gya , bola iske badle kya de sakte 

bola dekhne me bhut sunder hai

Usne us ratan ko liya 

Ek laal resham ka kapda bichaya , us ratn ko us pr rkha  matha teka , 
Va us vyakti se bola me apna sb kuch iske liye de sakta hu , bs ye ratan muje de do 
 ,

Thursday 30 May 2024

ina ankhiyan nu lad len de


काले कपड़े पाए hoye ने
उना तेनु लुट लेना जेड़े अपने बनाए होए ने

वे कोई तारा लिशकदिया 
तेरी में  नब्ज़ देखी ,तेनु मरजा इश्क दिया 

इक थाली विच पंज नाखा
मां दिए गोल गपिए तेनु लोंका इच की आंखा

मिटी लग गई ए पैरा नू
नी साढे नाल खा के कसमा, गल ला लिया गैरा  नू

बिजली दी तार होवे 
ओ का दा यार होंदा , जेड़ा सब दा ही यार होवे

फोन सजना दा आया ए
तेरिया जुदाइयां ने सानू मार मुकाया ए

जम्मू शहर अखरोट मिठे
तुसा मथे वट पाया , असा रस्ते ही छोड़ दिते

कोई चुन्नी ए रंग जोगी
आप ते पी दें नहीं 
लेनी यार मलंग योगी, 
Gle vich reshmi chunni payi hoyi e
AJ te mele vich baby doll vi aayi hoyi e
Asi ankha kive meliye ya jodiye
Tusi Kali enak payi hoyi e

Koi reshmi tlayi e
Knjra da kakh na rve .twanu bna Dita Sadi brjayi e

Bijli da khaba ve
Asi tuwadi gli nhi aana tuwade brava pa Lena lamba ve

Mushkil vich km aave 

O kada yaar hya jeda milna to pela hi gum jave 


Gli vich  aaya  dakiya
Sbdi aayi choti Sadi te choti vi nhi  aayi e


Sare bhande Pye kajde aa
JD tusi nhi aana ,asi Eve hi Pye sajde aa


Mushkil di kadiya ne 
Hum te aa ja sajna 
Sanu pe gyiya adiya ne

Koi kn pata peer hove
Satho Sanu le le safe jit sanjog dve
Pave Sadi jind le le 
Sade jit sanjog dve 
Kaan ka ka pya krda e
Asi isda ki kariye je husan tha goli ki awaz thaa tha pya krda e

Bolo awaz asi v layi e 
Jekr tu hun v na aaya ,rvmb Val rsame viday e
E ki khel bnaya e
Dushmna naal Mila ke ramja tusi mku e mukaya e 



Sunday 26 May 2024

बाग में जाने के कुछ उसूल होते हैं

बाग  में जाने के कुछ उसूल होते हैं
फूल से तितली को ना उड़ाया जाए 
घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यू कर ले 
किसी रोते  हुए बच्चे को हसाया जाये  
my originals 26/5/24
c.d.&.c by ritesh nagi

       इसी तरह ऐसे दोस्ती  व प्यार  के भी कुछ उसूल होते है 
हो गयी है गर छोटी सी तकरार  तो 
खामखां  में मुँह न सुजाया  जाये 
अगर लग गयी है किसी को किसी की बात बुरी 
तो उस बात का बतंगड़ न बनाया जाये 

सब को सब कुछ हासिल हो ये जरुरी तो नहीं 
जो हासिल है उस का खुल कर  लुतफ उठाया जाये 
में ही वो शख्स  हु जिसकी थी तलाश तुजे 
 इस वहम को अब ही  से मिट्या जाये 
   
 में तेरे काबिल हु या नहीं ये किसको पता 
तेरे वजूद को क्यों न तुजसे वाकिफ कराया जाये 
में तुजसे  मिलु या न मिलु ये नहीं है मसला 
चल आज तुझको तुजसे ही मिलाया जाये 
तू नरगिस है नजम है खूबसूरत नगमा है 
क्यों न तुजko सारे  आकाश me गुनगुनाया जाये 
 
मेरी हो न हो ,में  रहु न रहु, कोई बात नहीं 
तेरी हर बात को क्यों न सजदे में सजाया जाये 
तेरा आना तेरा मिलना मुकदर की बात सही 
क्यों न तेरा न मिलना भी मुकदस बनाया जाये 
मिलना और मिल कर  बिछड़ना है जगत की रीत  यही 
क्यों न ,ना  मिल कर   बिछुड़ने का दसतूर ही मिटाया जाये 











to be editied 


Ishi trha dosti va pyaar ke kuch usul hote hai
Khamkha me muh na sujaya jaye , 
Agar lg gyi hai kisi ko kisi ki  koi baat buri 
To us baat ka batangr na bnaya jaye , 
Sb ko sb kuch hasil ho ye jaruri to nhi
Jo hasil hai uska khul ke lutf utaya jaye
Me hi vo shakas hu jiski thi talash tuje 
Is veham ko ab hi se mitaya jaye 

Me tere kabil hu ya nhi kisko pta 
Tere vajud se kyo tujko vakif na kraya jaye
Me tujse milu ya na milu ,ye nhi hai masla 
Chl Aaj tujko tujse hi kyo na milaya jaye

Tu Nargis hai najam hai khubsurat nagma hai
Kyo na tujse sare aakah ko sajaya jaye
Meri ho na ho rhevna rhe koi baat nhi 
Teri hr baat ko sajde me sajya laya  jaye
Tera milna mukdr ki baat shi 
Tera na milna bhibkyo na mukdas bnaya jaye 
Milna mil kr bichdna hai reet yhi
Kyo na na mile na mil ke bichdene ka dastur mitaya jaye
में मेरा वजूद  हस्ती मेरे म्मायने मायने नहीं रखते 
 तू तेरा वजूद तेरी हस्ती तेरे मायने  इक नियामत है 
चारो तरफ बिखरा रहे नूर तेरा
हवा में सुगंध तेरी  रहे फैली 
सिर्फ   से निभाया जाये