Saturday, 25 February 2017

नवग्रह कवच ( jyotish) Armour for nine planets

                                                                नग्र च 
                      Armour for nine planets
      
                                                        (my originals )
                                                                                                    C.D&.C by Ritesh Nagi
                                                                                  9811351049 

        जो हमारे शरीर में है,वही सब ब्रहमांड में है। All that is outside you is with in you ."यत  पिंडे तत                  ब्रह्माण्डे "
 हमारे ऋषि मुनियो ने गहन चिंतन,मनन (deep consideration),से। अपनी गहन खोजो ,गहन  ज्ञान,          अपने देवतायो से प्राप्त ज्ञान की शूक्ष्मता को  इस विधि वत तरीके से हम तक पहुँचाया की बार बार उन्हें प्रणाम करने को जी चाहता है। किस प्रकार 9 ग्रह ,12 राशिया ,व 27 नक्षत्र ,हमारे भूत व भविष्य   को अपने अंदर समेटे रखते है। ग्रह ,12 राशिया ,व 27 नक्षत्र ,हमारे भूत व भविष्य को किस प्रकार प्रभावित कर  सकते है ,कैसे उन प्रभावो से बचा जा सकता है। जिस प्रकार ये 9 ग्रह ,12 राशिया ,व 27     नक्षत्र   ब्रहमांड में स्थित है ठीक  उसी प्रकार से यह हमारे शारीर  में भी स्थित है। यह ग्रह हमारे  जीवन           को  आर्थिक    ,सामाजिक ,व मानसिक रूप से कैसे प्रभावित करेगे ,,शरीर को किस प्रकार ,किस समय ,किन रोगों से  प्रभावित करेगे ,मानव का रूप ,रंग , काया , लिंग केसा , होगा  ,सभी कुछ ,इन 9 ग्रह  ,12 राशिया ,व 27 नक्षत्र ही निर्धारित करते है।
                                to be continued









इस नवग्रह कवच का रोज पाठ  करने से आप निश्चित रूप से महसूस करेगे   की  जो ग्रह आपको तंग कर रहे थे ,कुछ तो शांत अवश्य हुए है। वास्तव में यह सबसे आसान ,व सीधा ,सरल उपाय है सभी ग्रहो को शांत करने का ,व डोंगी लोगो के द्वारा फैलाये हुए जालो  से बचने का। यह भी हो सकता है की नेट पर आप को यह कंही न मिले ,क्योकि मुझे तो यह   प्राचीन पुस्तक से मिला है . 
                                                                           (my originals )
                                                                                                    C.D&.C by Ritesh Nagi
                                                                                  9811351049 




No comments:

Post a comment